Poetry, Quill

बैठ गया हूँ फिर…

बैठ गया हूँ फिर अपनी छोटी सी यह डायरी लेकर,
कानों में आवाज़ तेरी,
चेहरे पर मुस्कुराहट है,
एक हाथ में कलम और दूजे में तेरा हाथ है.

ख़ैर पता तो था घंटे भर की बात है सारी
आखिर कानों में आवाज़ है अब भी तेरी
चेहरे पर भी मुस्कुराहट है
एक हाथ में कलम पर दूजे में अब
सिर्फ तेरा एहसास है.

Poetry, Quill

Call

As i sat down, reminiscing the moments we shared,

I noticed intricate details,

that defined our love, the bond we shared.

I tried to bury my feelings,

but the crevice in my heart won’t be filled

and the tears in my eyes won’t stop,

I was devastated as I realised,

it was meaningless to be alive without a reason,

I am not here to wander aimlessly,

Devoid of purpose,

I was hopeless, as i got a call,

which changed me, my life, my everything,

that call was by my 

MOTHER.